Featured

Bharat gatha (Part.7)

Madhusudan Singh

Click here to Read Part ..6
Image Credit : Google.
आर्य-द्रविड़ की धरती भारत,
सोने की चिड़ियाँ थी भारत,
पड़ी विश्व की नजर कथा उस जम्बूद्वीप की गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ|२
बौद्धों का गांधार नगर,थे ब्राम्हण राजा हिन्द के,
बार-बार हमले होते थे,इस भू-भाग पर हिन्द के,
मगर हिन्द के रजवाड़े नफरत में सारे मौन रहे,
दुश्मन मिटते देख खुशी में रहते थे सब गौण खड़े,
बौद्धों का गांधार मिटा,थे दाहिर राजा हिन्द के,
रौंद रहे थे धरती बर्बर,कहाँ प्रेम था हिन्द से,
दाहिरसेन का कत्ल किया,आराजकता सिंध में छाई,
दाहिरसेन की पत्नी,बेटी ने लड़ जान गवाई,
चली जंग अरबों की बरसों,सिंध और अफगान से,
मानवता का अंत हुआ फिर,सिंध और अफगान से,
गजनी का उत्थान हुआ था,बेबस हिंदुस्तान हुआ था,
जबरन धर्म परिवर्तन का फिर दौर चला वह गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ।२
बँटे हुए थे…

View original post 620 more words

Advertisements

Categories: Featured

Reply At Your Own Risk. Leave The Dumbfuckery At The Door.

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s